लोग आपका सम्मान क्यों नहीं करते ?


दोस्तों आज मैं एक ऐसे विषय पर लेख लिखने कि कोशिस  कर रहा हूँ, जिसके कारण हर व्यक्ति इनका सिर्फ तिरिस्कार और नफ़रत और उनकी सदा ही उपेक्षा ही करता।  इन लोगो ने कौन सा अपराध किया है जो उन्हें सदा ही गलत नजर से तथा घृणा भाव से ही परखा जाता है  आप लोग शायद सोच रहे होंगे कि मैं किस कि बात कर रहा हूँ- 

 लोग आपका सम्मान क्यों नहीं करते ?

 
Welcome to लोग आपका सम्मान क्यों नहीं करते ?

  • जब आप लोगों के लिए ज्यादा उपलब्ध रहने लगते हैं तो लोग आपका सम्मान करना छोड़ देते हैं।
  • जब आप लोगों से बहुत ही ज्यादा समझदारी और प्यार से बात करते हैं तो लोग आप का मजाक बनाने लगते हैं।
  • जब हमारे पास पैसे नहीं होते। 
  • जब तक हम अपने जीवन में कुछ कर नहीं लेते लोग आपका सम्मान नहीं करेंगे
  • लोगों के साथ बदतमीजी से बात करना।
  • जब आप अच्छे कपड़े नहीं पहनते हैं।

मुझे यह सब बातें बोलते हुए बहुत ही ज्यादा दुख हो रहा है परंतु यह सब सच है।

उन्हें भी लोग क्यों पंसद नही करते, इसका कारण आत्मसम्मान में कमी है। यदि नुकसान नही पहुचाया, पर आत्मसमान नही, तो दुसरे पंसद नही करेगे।  इसीलिए हमे आत्मसम्मान पर बहुत ध्यान देना चाहिए 

दोस्तों वास्तव में ऐसे लोग थोड़े दब्बू किस्म के होते है,उनको चाहिए वो कभी अपनी तुलना न करे और अपने स्वमान में रहे तभी अन्य आपको पंसद करेगे। इसके लिए स्वमान की प्रेक्टिस होनी चाहिए. उस प्रेक्टिस से हम बेहतर फील करते. और दुसरो की पंसद के लिए नही, खुद पंसद करना वो खासियत होनी चाहिए।

अमूमन लोग इस प्रकार के व्यक्ति को पसंद नहीं करते हैं-

  • जो एक असफल व्यक्ति है।
  • जिसका व्यवहार दूसरों के प्रति ठीक नहीं है।
  • जो झूठ बोलने एवं तथ्यों को गलत तरीके से पेश करने मेंं माहिर है।
  • जो नकारात्मक प्रवृत्ति का है।
  • लोग ईर्ष्या के कारण विभिन्न क्षेत्रों मे सफल व्यक्ति से भी नफरत करते है और पसंद नहीं करते हैं।



दोस्तों मेरे कहने का अर्थ है कि यदि लोग आपका सम्मान क्यों नहीं करते ? “कोई “आपको पसंद नहीं करता है तो इसे लोगों की गलती न मानें, हो सकता है आपके अंदर ही कोई समस्या हो।

यदि समस्या है तो सुधार कीजिए एवं स्वयं को दूसरों के समक्ष बेहतर ढंग से प्रस्तुत कीजिए जिससे लोग आपको पसंद कर सके।

यदि आपको लगता है कि आप मे कोई समस्या नहीं है और लोग आपसे बिना बात के नफरत करते है। आप को पसंद नहीं करते तो आप अपना काम शांतिपूर्वक अपना काम करते रहे। आप दूसरों की सोच को नहीं बदल सकते है।

दूसरों को मनाना कि वह आपको पसंद करें यह दुनिया का सबसे कठिन एवं बेकार काम है।


पहले यह बताएँ कि आप स्वयं को कितना पसंद करते हैं? और अगर जवाब हाँ में है, तब किसी और की आवश्यकता ही कहाँ शेष रह जाती है, स्वमान में रहिए और अभिमान से बचें, और यह देखिएगा कि आप लोगों को क्या मदद कर सकते हैं, अपने उस गुण को पहचानने की कोशिश कर जिसमें आप स्वयं को अधिक अच्छा समझें और लोगों को मदद देने के लिए आगे आएं, क्योंकि ईश्वर ने हर एक को कोइ विशेषता तो दी है, और आप दाता के बच्चें हो दाता बनों, मांगों नहीं की कोई प्यार दे, सम्मान दे, उल्टा बाँटों जितना बाँटेंगे पलत कर वापस ब्याज के साथ मिलेगा, कर्म का सिद्धांत क्रिया की प्रतिक्रिया अवश्य संभावी है।


दोस्त कभी कभी लोग इसलिए नहीं पसन्द करते क्योंकि आप उनकी पसन्द के अनुसार अपने को ढाल नहीं सके हैं और ढाल सकते भी नहीं। आप का अपना व्यक्तित्व है और अपने आदर्श हैं। आप अपने व्यक्तित्व का विकास करें और अपने आदर्शों को प्राप्त करने का प्रयास करें। आपके जीवन की सफलता यही है। दूसरों द्वारा पसन्द किया जाना आपके जीवन की सफलता का मापदण्ड नहीं हो सकता। यह अपने प्रयासों के मूल्यांकन का केवल एक आधार हो सकता है। अतः दूसरों की राय को आवश्यकता से अधिक महत्त्व न दें।

दोस्तों पहले आप खुद को पसंद करिए लोग आपको पसंद करें या ना करें इसको ध्यान मत दीजिए फिर भी कारण पता करने की कोशिश करिए आपका व्यवहार औरों के प्रति कैसा है क्या उन्हें पसंद आता है आपका व्यवहार? फिर सुधार करने की कोशिश करिए लेकिन कुछ भी हो आपको आपको खुश रहना है।

क्योंकि आधुनिक परिदृश्य में कड़वे सच को कोई भी आसानी से स्वीकार नहीं करता है। परिणाम स्वरूप सच बोलने वाले लोगों से सभी नफरत करने लगते हैं।

किसी को नापसंद करने के कुछ कारण होते हैंl

  • क्या आप लोगों पर अपनी बात थोपते हो?
  • क्या आपकी भाषा अभद्र है?
  • क्या आप सबकी बात अनसुनी करते हो
  • क्या आपका व्यवहार सकारात्मक नहीं है
  • क्या आप अपनी गलतियां सुधारने को कोशिश भी नहीं करते हो


आप कभी अपने से यह सवाल पूछ कर देखो खुद उत्तर मिल जाएगा

दोस्तों लोगों की चिंता छोड़िये, आप सबसे पहले खुद को प्यार कीजिये,और खुदको जानिए ।आपको किस काम मे खुशी होती है ,वह करिये।

जिस दिन आपने खुद को खुश कर लिया, दुनियाँ आपसे खुश हो जाएगी।

अपने आप को इतना सुंदर ,इतना मजबूत बनाइये कि आपको लोगों की नही बल्कि लोगों को आपकी जरूरत हो।

खुदको सरल बनाओ ,लोग आपको नही आपके व्यवहार को पसन्द करते है।

ॐ शांति आपका जीवन सफल रहे, यही हमारी शुभकमाना है….

 

दोस्तों उम्मीद करता हूँ कि यह article आपको पसंद आया होगा , please कमेंट के द्वारा feedback जरूर दे। आपके किसी भी प्रश्न एवं सुझाओं का स्वागत है , अगर आप मेरे आर्टिकल को पसन्द करते है तो जरूर Follow करे ताकि आपको तुरंत मेरे आर्टिकल आपको मिल जाए। 


धन्यवाद 


No comments:

Powered by Blogger.